लहसुन उत्पादकों के लिए विशेेष योजना बनाएं विश्वविद्यालय : राज्यपाल

img

जयपुर
राजस्थान के राज्यपाल एवं कुलाधिपति कल्याण सिंह ने कृषि से जुड़े वैज्ञानिकों, प्राध्यापकों और छात्र-छात्राओं को कृषि विकास की तीन महत्वपूर्ण बातें बताई हैं। सिंह ने कहा है कि स्थान विशेष की कृषि रणनीति बनायें, कृषि विपणन का ढ़ांचा मजबूत करें और कृषि योजनाओं को किसानों तक पहुॅचायें। राज्यपाल सिंह ने कोटा में लहसुन की फसल प्रचुरता से होने पर किसानों को पर्याप्त सुविधाएं दिये जाने के लिए विश्वविद्यालय को विशेष कार्ययोजना बनाए जाने के निर्देश दिये है। राज्यपाल एवं कुलाधिपति सिंह ने कोटा के कृषि विश्वविद्यालय के दूसरे दीक्षांत समारोह पर छात्र-छात्राओं व उनके अभिभावकगण और विश्वविद्यालय के कृषि विशेषज्ञों, अधिकारियों व कर्मचारियों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं। दीक्षांत समारोह में भेजे शुभकामना संदेश में सिंह ने कहा है कि राष्ट्रीय और प्रादेषिक स्तर के कृषि के विविध आयामों का कृषि विश्वविद्यालय अध्ययन और शोध करें। कुलाधिपति कल्याण सिंह ने कहा है कि कृषि विश्वविद्यालय जिस स्थान विशेष पर स्थापित हैं। वहां के कृषि विषयक वातावरण से अपने को जोडें। स्थानीय कृषि समस्याओं को समझें और उनके समाधान का रास्ता सुझाएं। उन्होनें कहा कि कोटा क्षेत्र में इस वर्ष लहसुन की फसल का बम्पर उत्पादन हुआ, परन्तु मार्केटिंग की समस्या रही। भण्डारण, खरीद और उचित मूल्य के लिए किसानों को जूझना पड़ा। सिंह ने लहसुन की फसल के भण्डारण की तकनीक खोजने और लहसुन आधारित कुटीर उद्योगों की स्थापना की सम्भावनाएं तलाशने की भी आवश्यकता प्रतिपादित की है। कुलाधिपति सिंह ने कृषि विश्वविद्यालयों को भविष्य के लिए योजना तैयार करने को कहा है। कुलाधिपति कल्याण सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 'प्रधानमंत्री अन्नदाता आय संरक्षण अभियान' शुरू किया गया है। विष्वविद्यालय इस योजना को किसानों तक पहुंचाने का कार्य करें। किसान इससे कैसे लाभान्वित हों, इसके लिए राज्य के कृषि विभाग से विश्वविद्यालय सहयोग लें और उनको सहयोग भी प्रदान करें।