मणिपाल विश्वविद्यालय ने ग्रामीणों के लिए किया तकनीक प्रदर्शन एवं प्रशिक्षण केंद्र का उद्घाटन

img

जयपुर
मणिपाल विश्वविद्यालय जयपुर को डीएसटी सपोर्टेड तकनीक प्रदर्शन एवं प्रशिक्षण केंद्र 5 साल के लिए घोषित किया गया है। इसी के साथ डीएसटी ने प्रथम वर्ष के लिए 13 प्रशिक्षण कार्यक्रमों का संचालन करने के लिए 10 लाख रूपए दिए हैै। विश्वविद्यालय के डीन, रिसर्च एवं इनोवेशन डॉ. रविशंकर कामथ ने बताया कि इस केंद्र को स्थापित करने का उद्देश्य लघु प्रशिक्षण कार्यक्रमों के माध्यम से ग्रामीण परिवेश के लोगों में तकनीक एवं कौशल का विकास करना है। इसी क्रम में केंद्र का उद्घाटन डीएसटी, राजस्थान के कमीश्नर, के. सी. मीना, मणिपाल विश्वविद्यालय जयपुर के प्रेसिडेंट, प्रो. जी. के. प्रभु ने किया। इस अवसर विश्वविद्यालय के प्रेसिडेंट, प्रो. जी. के. प्रभु ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि यह सेंटर एमयूजे एवं डीएसटी के संयुक्त तत्वावधान में स्थापित कर कार्यकर स्मार्ट विलेज के रूप में आस-पास के गांवों का विकास करना है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एवं डीएसटी राजस्थान के कमीश्नर के. सी. मीना ने इस प्रकार के प्रशिक्षण कार्यक्रमों की आवश्यकता जताई। साथ ही उन्होंने कहा कि आने वाले समय में और अधिक से अधिक तकनीक प्रदर्षन एवं प्रषिक्षण के कार्यक्रम स्थापित कर चलाए जाएंगे। साथ ही उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों के विकास में नए आयाम स्थापित करने के लिए मणिपाल विष्वविद्यालय जयपुर का धन्यवाद दिया।