चिकित्सा मंत्री ने किया पोषण-2 अभियान का शुभारंभ

img

जयपुर
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ ने बिरला ऑडीटोरियम में दो दिवसीय पेरीनेटल कॉन्फ्रेंस ''पेरीकॉन" के पहले दिन के सायंकालीन सत्र में ''पोषण-2'' (समेकित कुपोषण प्रबंधन कार्यक्रम) का शुभारम्भ किया। इस मौके पर देश व प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों से पधारे शिशु रोग, स्त्रीरोग विषय विशेषज्ञ तथा चिकित्सा अधिकारीगण मौजूद थे। चिकित्सा मंत्री ने कहा कि किसी भी प्रदेश के स्वास्थ्य की जांच उस प्रदेश के हैल्थ इंडेक्स द्वारा की जा सकती है। उन्होंने कहा कि गत 4 वर्षों में किये गये विशेष प्रयासों से अब स्वास्थ्य सूचकांकों में निरन्तर सुधार हो रहा है। नीति आयोग ने हाल ही में आधार वर्ष 2014-15 तथा रेफरेंस वर्ष 2015-16 के आंकड़े प्रकाशित किये हैं। वर्ष 2014-15 के आधार वर्ष के अनुसार वार्षिक वृद्धि दर के आधार पर राजस्थान 21 बड़े राज्यों में 8वें पायदान पर है। एसआरएस के अनुसार वर्ष 2013 के अनुसार राजस्थान की 5 वर्ष तक की शिशु मृत्युदर 57 थी में 12 अंकों की गिरावट के साथ 45 रह गयी है। नवजात शिशु मृत्युदर में 4 अंकों का सुधार हुआ है और यह 32 से घटकर 28 प्रति हजार रह गयी है। टीएफआर में भी बेहतर सुधार हुआ है। सराफ ने कहा कि समयपूर्व जन्में अथवा कम वजन वाले जन्में नवजात शिशुओं को सघन उपचार के लिए वर्तमान में 60 एसएनसीयू संचालित हैं जिनमें नये स्थापित 16 एसएनसीयू भी शामिल हैं। प्रदेश में गर्भवती महिलाओं को प्रसव पूर्व सुरक्षा प्रदान कर सुरक्षित मातृत्व के साथ ही मातृ मृत्युदर एवं शिशु मृत्युदर कम करने के लिए अनेक अभिनव प्रयास किये जा रहे हैं। चिकित्सा मंत्री ने कहा कि बच्चों में कुपोषण की समस्या भी चुनौतीपूर्ण है। इसे ध्यान में रखते हुए प्रदेश के 13 जिलों बारां, बाड़मेर, बांसवाड़ा, बूंदी, धौलपुर, डूंगरपुर, जैसलमेर, जालोर, करौली, प्रतापगढ़, राजसमन्द, सिरोही व उदयपुर जिलों के 41 ब्लॉक्स में अतिगंभीर कुपोषित बच्चों का प्रबंधन कर उन्हें अति कुपोषण से मुक्त करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। कुल 10 हजार 246 बच्चे अति गम्भीर कुपोषित पाये गय थेे। इनमें से 406 को कुपोषण उपचार केन्द्र भिजवाकर उपचार करवाया गया और शेष 9 हजार 640 अति गम्भीर कुपोषित बच्चों को सीमेम कार्यक्रम के तहत जोड़कर स्वास्थ्य कार्मिकों व परिजनों की निगरानी में 'पोषण अमृत' खिलाकर कुपोषण मुक्त किया गया। सराफ ने कहा कि प्रदेश में सीमेम कार्यक्रम के प्रथम चरण की सफलता के बाद अब 'पोषण-2' अभियान की शुरूआत की जा रही है। इस अभियान में कुल 20 जिलों के 46 ब्लॉक में संचालित कर चिन्ह्ति 13 हजार 500 अति कुपोषित बच्चों को कुपोषण मुक्त करना हमारा लक्ष्य है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि विभिन्न क्षेत्रों के विषय विशेषज्ञों के इस महाकुंभ के सार्थक परिणाम आयेंगे। शिशु मृत्यदुर एवं मातृ मृत्युदर में कमी लाने में सहायक महत्वपूर्ण तकनीकी पहलुओं पर दोनों दिन विस्तृत चर्चा से एक दिशा की ओर हम अग्रसर होंगे। अतिरिक्त मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य श्रीमती वीनू गुप्ता ने प्रदेश में मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य सेवाओं में बेहतर सेवाएं उपलब्ध करवाने हेतु संचालित चिरायु कार्यक्रम की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य सेवाओं को ओर सुदृढ़ बनाने हेतु स्त्रीरोग विषेषज्ञों व शिशु रोग विषेषज्ञों के बीच बेहतर सामंजस्य स्थापित करने की आवश्यकता प्रतिपादित की। स्वास्थ्य सचिव एवं मिशन निदेशक श्री नवीन जैन ने पोषण अभियान के प्रथम चरण के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पोषण-2 के सफल क्रियान्वयन हेतु सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गयी हैं। कार्यक्रम में अतिरिक्त मिशन निदेशक एनएचएम श्री राजन विशाल, संयुक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी बीएसबीवाई श्री आशीष मोदी, चीफ आफॅ फिल्ड ऑफिस यूनिसेफ इसबेले बार्डेम, निदेशक जनस्वास्थ्य डॉ.वी.के.माथुर, सीफू निदेशक डॉ.अमिता कश्यकप सहित डवलपमेंट पार्टनर के प्रतिनिधिगण सहित संबंधित अधिकारीगण मौजूद थे। बेहतर परिणाम देने वाली एसएनसीयू पुरस्कृत चिकित्सा मंत्री ने नवजात शिशु स्वास्थ्य इकाइयों में बेहतर परिणाम देने वाले संस्थानों व कार्मिकों की कुल 13 टीमों को पुरस्कृत किया साथ ही एसएनसीयू के बेस्ट 8 डेटा एंट्री ऑपरेटर एवं प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले चिकित्सकों को भी पुरस्कृत किया।