सिंगल विण्डो सिस्टम के प्रति जागरुकता बढ़ाने की आवश्यकता प्रतिपादित : आयुक्त उद्योग

img

जयपुर
आयुक्त उद्योग व सीएसआर डॉ. समित शर्मा ने सिंगल विण्डों क्लियरेंस सिस्टम को और अधिक प्रभावी व पब्लिक फ्रैण्डली बनाने के लिए जागरुकता बढ़ाने की आवश्यकता प्रतिपादित की है। उन्होंने कहा कि उद्योग व संबंधित विभागों के अधिकारियों के सेंसेटाइजेशन के लिए सूचना एवं प्रोद्यौगिकी विभाग के सहयोग से 22 अक्टूबर को कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा। उद्योग व बीआईपी आयुक्त डॉ. समित शर्मा सोमवार को उद्योग भवन में ब्यूरो ऑफ इवेस्टमेंट प्रमोशन के बोर्ड रुम में सिंगल विण्डों क्लियरेंस सिस्टम से जुड़े विभागों के प्रभारी अधिकारियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने विचाराधीन प्रकरणों के निष्पादन में देरी को गंभीरता से लेते हुए संबंधित विभागों को तय समय सीमा में आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करने को कहा। उन्होंने कहा कि सिंगल विण्डों सिस्टम पोर्टल पर इससे जुड़े विभागों से संबंधित बिन्दुओं के आवश्यक कानून कायदों व औपचारिकताओं की जानकारी भी उपलब्ध होने से ऑनलाईन ही सारी औपचारिकताएं पूरी की जा सकती है। आयुक्त शर्मा ने बताया कि केन्द्र सरकार ने राज्यों की रेंकिंग व्यवस्था में फीड बैंक सिस्टम को खास महत्व दिया है। इस साल से 80 बिन्दुओं पर फीड बैक लिया जाएगा। उपनिदेशक उद्योग संजय मामगेन ने बताया कि केन्द्र सरकार के औद्योगिक नीति एवं संवर्द्धन विभाग द्वारा गुरुवार को रेंकिंग के नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इनके अनुसार अब 80 पाइंट्स में कारोबार को आसान बनाने के लिए सुधारों से जुड़ी सभी आवश्यक सेवाओं को समाहित किया गया है। सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग के राजीव गुजराज ने बताया कि सिस्टम प्रभावी तरीके से काम कर रहा है। बीआईपी की एसडब्ल्यूसीएस प्रभारी मलार ने ब्यूरो ऑफ इवेस्टमेंट प्रमोशन के क्लियरेंस सिस्टम की विस्तार से जानकारी दी। बैठक में नोलेज पार्टनर केपीएमजी के एसोसिएट निदेशक धवल पिपलानी व देवनीत ने कंप्यूटर स्लाइड प्रजेंटेशन के माध्यम से प्रस्तुतिकरण दिया।बैठक में डीओआईटी, राजस्व, उर्जा, पीएचईडी, उद्योग, श्रम, फेक्ट्री एवं बायलर, पर्यावरण, सहकारिता, पर्यटन, बीआईपी, उर्जा आदि विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।