चोरी होने पर अब पीडि़त दर्ज करा सकेंगे ऑनलाइन एफआईआर

img

जयपुर
वाहन चोरी होने पर अब थाने जाकर एफआईआर लिखवाने की जरूरत नहीं रहेगी। पीडि़त व्यक्ति खुद इंटरनेट का उपयोग कर एफआईआर दर्ज करवा सकेगा। हालांकि यह सुविधा सिर्फ वाहन चोरी होने पर ही उपयोग में ली जा सकेगी। वाहन चोरी के आरोपी को पहचाने जाने, चोट लगने या बल प्रयोग होने की स्थिति में पीडि़त को थाने जाकर ही एफआईआर दर्ज करानी होगी। यह बात महानिदेशक पुलिस ओपी गल्होत्रा ने गुरुवार को पुलिस मुख्यालय में राजस्थान पुलिस के स्टेट क्राइम रिकार्ड्स ब्यूरो के तत्वावधान में आमजन की सुविधा के लिए बनाए गए ऑनलाइन ई-एफआईआर एवं पुलिस कर्मियों हेतु लर्निंग मैनेजमेंट सिस्टम के शुभारंभ अवसर पर कही। गल्होत्रा ने बताया कि ई-एफआईआर के माध्यम से आमजन बिना थाने पर गए इंटरनेट का उपयोग कर अपने वाहन चोरी की रिपोर्ट ऑनलाइन दर्ज करा सकता है। ई-एफआईआर (केवल वाहन चोरी के लिए) अभियुक्त अज्ञात हो व घटना के दौरान चोट या बल प्रयोग नहीं होने की स्थिति में दर्ज कराई जा सकती है। यदि चोरी की घटना, जिसमें अभियुक्त ज्ञात हो अथवा घटना के दौरान चोट या बल प्रयोग किया गया हो तो उसकी शिकायत संबंधित थाने में दर्ज करवाई जा सकेगी। यह सुविधा स्टेट क्राइम रिकार्ड्स ब्यूरो राजस्थान जयपुर द्वारा तैयार किए गए क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रेकिंग एंड नेटवर्किग सिस्टम से जुड़ी हुई है। राजस्थान में वाहन चोरी की शिकायत दर्ज कराने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था ई-एफआईआर के माध्यम से प्रदान कराने के साथ उसे क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रेकिंग एंड नेटवर्किग सिस्टम से एकीकृत करने वाला पहला राज्य है।