वेडर कंजर्वेशन के लिए फेयर का आयोजन

img

जयपुर
जयपुर के मान सागर झील पर गुरूवार से आरम्भ हुए 'इंडियन बर्डिंग फेयर'। इसके 22 वें संस्करण में 15 स्कूलों एवं 3 कॉलेजों के लगभग 1500 स्टूडेंट्स ने भाग लिया। दो दिवसीय इस फेयर में स्टूडेंट्स ने वेडर बर्डस् के संरक्षण पर आधारित ओपन एयर सैशंस, बर्ड वाचिंग, टैटू मेकिंग, फेस पेंटिंग, क्विज एवं पेंटिंग्स जैसी विभिन्न गतिविधियों में उत्साहपूर्वक भाग लिया। यह फेयर टूरिज्म एंड वाइल्डलाइफ सोसायटी ऑफ इंडिया (टीडब्ल्यूएसआई) द्वारा आयोजित किया जा रहा है। यह फेयर आज प्रात: 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक आयोजित किया जाएगा। इस अवसर पर टीडब्ल्यूएसआई के प्रेसीडेंट, आनंद मिश्रा ने बताया कि यह फेयर स्टूडेंट्स के लिए प्रवासी एवं स्थानीय पक्षियों को देखने और पर्यावरण के लिए इन पक्षियों के महत्व को समझने की पहल एवं अवसर है। टीडब्ल्यूएसआई की ओर से हमेशा पक्षियों की लुप्तप्राय प्रजातियों एवं इनके निवास स्थानों के संरक्षण की दिशा में काम किया जाता है। टीडब्ल्यूएसआई के मानद सविच, हर्षवर्धन ने कहा कि इस फेयर के माध्यम से भारतीय उपमहाद्वीप में पाए जाने वाले 84 से अधिक प्रजातियों के पक्षियों के संरक्षण के लिए अभियान चलाया जा रहा है। इनमें ब्लैक विंग्ड स्टिल्ट, रेड वेट्टेल्ड लेपविंग, जेर्डोनस कोर्सर, स्पून-बील्ड सैंडपाइपर, स्मॉल प्रेटिनकोल, लिटिल रिंग्ड प्लोवर कुछ प्रमुख बर्डस् हैं। इस अवसर पर वन्यजीव फिल्म निर्माता, वी. पी. धर एवं ब्रिजिट उत्तर कोर्नेटर््की; सीएचईसी इंडिया के प्रेसीडेंट, प्रो. टी. आई. खान; आईआईएस यूनिवर्सिटी के डॉ. लता एवं सुश्री प्रियंका माथुर; कनोडिय़ा कॉलेज से डॉ. सुनीता शेखावत तथा जयपुरिया इंस्टीट्यूट से सुश्री प्रेरणा जैन एवं वरुण उपस्थित थे। 
उल्लेखनीय है कि इस फेयर का आयोजन जयपुर जू, हेम चंद महिंद्रा ट्रस्ट, डब्ल्यूडब्ल्यूएफ, एयू बैंक, त्रिमूर्ति, जेएमआरपीएल एवं कुछ विदेशी संगठनों के सहयोग से किया जा रहा है।