सार्वजनिक परिवहन प्रदान करने में दूसरे स्थान पर ओला

img

  • भारत में सुरक्षित और आरामदायक ओला 
  • मोबिलिटी इंस्टिट्यूट के ईज ऑफ मूविंग इंडेक्सि में हुआ खुलासा

जयपुर
स्था्यीपूर्ण मोबिलिटी इकोसिस्टम के निर्माण के लिए आधार तैयार करने के प्रयास में, ओला मोबिलिटी इंस्टीट्यूट, ने आज भारत का पहला ईज ऑफ मूविंग इन्डेक्स, 2018 जारी किया। ओला मोबिलिटी इंस्टीट्यूट दुनिया के सबसे बड़े राइड-हेलिंग प्लेवटफॉर्म में से एक ओला की रिसर्च एवं आउटरीच शाखा है। रिपोर्ट से प्राप्ति आंकड़ों के अनुसार, जयपुर ने सार्वजनिक परिवहन सुरक्षा और सार्वजनिक परिवहन के जरिये आरामदायक यात्रा मुहैया कराने के मामले में दूसरा सर्वोच्च स्थापन हासिल किया है। इस रिपोर्ट में शहरों के लिए व्यारपक कार्य योजना लाने की बात कही गई है ताकि उनके सार्वजनिक परिवहन तंत्र को और मजबूत करने के साथ ही मोबिलिटी की समग्र हालत को बेहतर बनाया जा सके। इस रिपोर्ट को माननीय केंद्रीय मंत्री, सड़क परिवहन नितिन गडकरी द्वारा जारी किया गया। इस मौके पर ओला के सह-संस्थापक और सीईओ भाविश अग्रवाल व अन्य प्रमुख गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे। मोबिलिटी के लिए शहर-विशिष्टर होने की जरूरत है, इस रिपोर्ट में देश भर के 20 शहरों के 43,000 से अधिक उत्तरदाताओं के बीच सर्वेक्षण किया गया है। इन शहरों को पांच मानदंडों - स्केल, कैरेक्टर, कल्चर, इकोनॉमी और जियोग्राफी के आधार पर चुना गया था। इसमें 50़ पैरामीटर मानदंडों को ध्यान में रखते हुए मूल्यांकन किया गया जिन्हें  मूल्यांकन के स्तंभ के तौर पर जनता, इंफ्रास्ट्रक्चर और स्थायित्व में बांटा गया था। यह रिपोर्ट वर्तमान परिवहन सुविधाओं की सुलभता, दक्षता और सुरक्षा का आकलन करती है। चूंकि स्था यित्व् समय की आवश्यकता है, इसलिए इंडेक्स एक रोडमैप प्रदान करता है, जो ट्रांजिट एजेंसियों और शहरी योजनाकारों को पूरी समझदारी से निर्णय लेने और यात्रियों की प्राथमिकताओं के अनुसार समाधानों को तैयार करने में सहायता करेगा। इवेंट के लॉन्च के दौरान माननीय केंद्रीय मंत्री, नितिन गडकरी ने कहा द ईज ऑफ मूविंग इंडेक्स शहरों के लिए मोबिलिटी की स्थिति का आकलन करने के लिए एक सराहनीय प्रयास है। इस रिपोर्ट में महत्वरपूर्ण जानकारी है जोकि प्रदूषण, भीड़भाड़ और सुरक्षा से निपटने के लिए स्माूर्ट फैसले लेने और व्याटपक पैमाने पर लोगों के लिए मोबिलिटी बेहतर बनाने हेतु डायनैमिक सॉल्यूशंन का निर्माण करने में सार्वजनिक हितधारकों, सिटी एडमिनिस्ट्रे टर्स और सिटी प्लायनर्स की मदद कर सकती है। ओला के सह-संस्थापक और सीईओ भाविश अग्रवाल ने कहा, श्मोबिलिटी में क्रांति अभी शुरू हो रही है, और हमें विश्वास है कि मोबिलिटी इकोनॉमी का उद्भव देश के आर्थिक और सामाजिक विकास के लिए उत्प्रेरक हो सकता है। ईज ऑफ मूविंग इंडेक्स हमें शहरों और नागरिकों के लिए मोबिलिटी के महत्व का आकलन करने में मदद करता है। ओला मोबिलिटी इंस्टिट्यूट ऐसी परियोजनाओं पर काम करेगा जिससे मोबिलिटी को आर्थिक विकास में योगदान देने में मदद मिलेगी और हम  बेहतर मोबिलिटी के लिए ईज ऑफ मूविंग इंडेक्स को वार्षिक बेंचमार्क के तौर पर मजबूत करने के लिए साझेदारी का स्वाबगत करते हैं। अभी तक हुई प्रगति का विश्लेरषण करने के लिए, "ईज ऑफ मूविंग इंडेक्स" एक लिटमस टेस्ट की तरह सेवायें देता है और यह भी आकलन करता है कि क्यो लोगों का परिवहन बर्ताव स्थारयित्वमपूर्ण मोबिलिटी की अवधारणा के अनुरूप है। शेयर्ड मोबिलिटी की तीव्र वृद्धि और इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने की इच्छाी से यह संकेत मिलता है कि भारत स्थालयित्व पूर्ण परिवहन के अगले दौर में प्रवेश करने के लिए तैयार है।