रालसा ने डेढ़ माह में 81 हजार लोगों को जागरूक कर 107 बाल विवाह रुकवाए

img

  • अभियान के तहत सभी जिलों में गांव-गांव जा जागरुकता शिविर लगाए जा रहे
  • रालसा प्रदेश में एक अप्रेल से बाल विवाह के खिलाफ अभियान चला रहा

जयपुर
राजस्थान विधिक सेवा प्राधिकरण (रालसा) ने 107 बाल विवाह रुकवाने में सफलता हासिल की है। ऐसा प्रदेश भर में बाल विवाह के लिए चला जा रहे अभियान के कारण हो सका है। अभियान के तहत सभी जिलों में गांव-गांव जा जागरुकता शिविर लगाए जा रहे हैं। जिसमें लोगों को हैल्प लाइन पर सूचना देने के लिए प्रेरित किया गया। अभियान 30 जून तक जारी रहेगा। रालसा प्रदेश में एक अप्रेल से बाल विवाह के खिलाफ अभियान चला रहा है। तीन महीने की अवधि का यह अभियान 30 जून तक जारी रहेगा। इस अभियान 15 अप्रेल को ने अपना आधा सफर तय कर लिया है। डेढ़ महीने की अवधि में विधिक सेवा के कार्यकर्ताओं ने 970 गांवों में शिविरों का आयोजन किया। इन शिविरों में 80 हजार 931 लोगों ने भाग लिया, जिन्हें बाल विवाह से होने वाले नुकसानों के बारे में समझाया गया। साथ ही यह भी बताया गया कि कानूनन बच्चों का विवाह करना कितना गंभीर अपराध है। ऐसे में वह खुद ऐसा अपराध ना करें, साथ ही किसी भी जगह ऐसा होने का पता चले तो शिकायत भी करें। जिसका असर यह हुआ की बड़ी संख्या में रालसा को बाल विवाहों के बारे में सूचना मिली। जांच में पुष्टि होने पर 107 बाल विवाह रुकवाने में सफलता हासिल हुई। कच्ची उम्र में होने वाली इन शादियों के रुक जाने से 214 बच्चों का भविष्य बर्बाद होने बच गया।