सरकार की नीतियों के विरोध में रोडवेज कर्मचारियों ने कटोरा लेकर मांगी भीख

img

जयपुर
राजस्थान रोडवेज के श्रमिक संगठनों का संयुक्त मोर्चा के आह्वान पर चल रहे प्रदेश व्यापी अनिश्चितकालीन चक्का जाम जारी है। हड़ताल के 14 वें दिन रविवार को पूरे प्रदेश में रोडवेज कर्मचारियों ने सड़क पर राहगीरों से भीख मांग कर सरकार की रोडवेज विरोधी नीतियों का विरोध किया। राज्य सरकार द्वारा 27 जुलाई 2018 के लिखित समझौते को लागू करने की मांग कर रहे है कर्मचारी रोडवेज कर्मचारियों का कहना है कि राजस्थान सरकार अपनी हठधर्मिता पर अड़े हुए हैं सरकार 27 जुलाई 2018 के लिखित समझौते को लागू नहीं कर रही है जिसके कारण मजबूरन रोडवेज कर्मचारी आंदोलन कर रहे हैं। प्रदेश सचिव जफर इकबाल का कहना है कि जब तक समझौता लागू नहीं कर दिया जाता। तब तक रोडवेज कर्मचारियों आंदोलन करेंगे तथा लगातार आंदोलन में तेजी लाएंगे। आरोप है कि परिवहन मंत्री लगातार आमजन को गुमराह कर झूठ बोल रहे हैं तथा रोडवेज को बर्बाद कर निजी वाहन मालिकों को फायदा पहुंचा रहे हैं। सरकार द्वारा रोडवेज की बैंक गारंटी बंद करना बस अड्डों का प्राधिकरण बनाना तथा राजस्थान में राजस्थान लोक परिवहन सेवा की बसें चलाकर कड़े प्रहार किए गए हैं। जिसके कारण सिर्फ 4 साल में रोडवेज का घाटा 25 सौ करोड़ रुपए बढ़ गया है। जबकि, इस सरकार से पहले 17 साल में मात्र 2000 करोड़ का घाटा रोडवेज में था परंतु इस सरकार ने रोडवेज विरोधी नीतियां बनाकर रोडवेज को बर्बाद कर दिया है। इन्हीं विरोध के चलते हड़ताल पर मौजूद कर्मचारियों ने रविवार दोपहर 2 बजे प्रदेशभर में हाथ में कटोरा लेकर सड़क पर सरकार के नाम पर आम जनता से भीख मांगी।