स्मार्ट सिटी के लिए स्मार्ट विजन, स्मार्ट एग्जीक्यूशन, स्मार्ट इम्प्लीमेंटेशन ज़रूरी

img

जयपुर
उपराष्ट्रपति एम.वेंकैया नायडु ने कहा है कि वही शहर स्मार्ट है जिसमें रहने वाले लोगों का जीवन उन्नत एवं आरामदायक हो, वे खुशहाल हों और सबसे ज्यादा जरूरी कि वे उसे प्यार करें। शहर को स्मार्ट बनाने की जितनी जिम्मेदारी सरकार की है, उतनी ही वहां के निवासियों की भी है। नायडु बुधवार को जयपुर के सीतापुरा स्थित जेईसीसी सभागार में तीन दिवसीय स्मार्ट सिटी एक्सपो 2018 के उद्घाटन सत्र को मुख्य अतिथि के रूप मेें सम्बोधित कर रहे थे। उपराष्ट्रपति ने कहा कि 2015 में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट की शुरूआत के समय इसके बारे में कई लोगों को शंकाएं थीं कि केवल 100 शहर इतने बड़े देश में क्या परिवर्तन ला पाएंगे, लेकिन इस मिशन की संकल्पना में इन शहरों को लाइट हाउस माना गया था जो दूसरे शहरों को भी स्मार्ट बनने के लिए प्रेरित करेंगे। आज स्थिति यह है कि परियोजना में चयनित 100 शहरों में से अधिकतर मिशन मोड में आ चुके हैं और कई राज्यों से उनके अन्य शहरों को मिशन में शामिल किए जाने की मांग उठ रही है। उन्होंने कहा कि देश में अनियोजित शहरी बसावटों की समस्या बहुत विकट है। अब समय आ गया है कि कस्बों एवं शहरों के लिए आने वाले 30-40 वर्ष के लिए योजनाएं बनाई जाएं। हर कस्बे में अन्य आधारभूत स्मार्ट सुविधाओं के साथ-साथ बाइपास, रिंग रोड, पब्लिक ट्रांसपोर्ट जैसी सुविधा होनी चाहिए। साथ ही जनसुविधा एवं जनजीवन से जुड़े हर क्षेत्र में नवाचार आने चाहिए। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी ऐसी हो जहां महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों का जीवन आसान और आरामदायक बनाने के लिए सभी सुविधाएं मौजूद हो। उपराष्ट्रपति ने कहा कि जयपुर स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में पैदल चलने वालों के लिए नॉन मोटराईज्ड मोबिलिटी को शामिल किया गया है। यह आज के समय की आवश्यकता है। इसके बारे में अन्य शहरों में भी सोचा जाना चाहिए। उन्होंने नॉन मोटराइज्ड पाथ-वे, साइकिल ट्रैक, ग्रीन बैल्ट को शहर के लिए आवश्यक बताया एवं कल्चर और आर्किटेच्क्रर के बेहतर मेल से शहर का फ्यूचर सुधारने की बात कही। श्री नायडु ने जयपुर में रिवर फ्रंट के किए जा रहे कार्र्यों की तारीफ करते हुए नदियों का ध्यान रखे जाने की आवश्यकता जताई। केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि यह एक्सपो अर्बन प्लानर्स और स्मार्ट सिटी मिशन में सहयोगी संस्थानों के लिए एक विशेष मंच है। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी मिशन केन्द्र सरकार की फ्लैगशिप योजना है। इसका उद्देश्य शहर के निवासियों को बेहतरीन सामाजिक सुरक्षा प्रदान करना, युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना और काम करने और रहने के लिए बेहतरीन वातावरण देना है। उन्होंने स्मार्ट मिशन के तहत राज्य में चल रहे कार्यों की प्रगति पर संतोष व्यक्त किया और इसके लिए राज्य सरकार की सराहना भी की।