पूर्ववर्ती वसुंधरा सरकार की भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना होगी मर्ज

img

जयपुर
भामाशाह योजना को लेकर पूर्ववर्ती वसुंधरा सरकार ने बड़े-बड़े दावे किए, लेकिन भामाशाह कार्ड को लेकर कांग्रेस के नेताओं ने राजनीति करनी भी नहीं छोड़ी थी। वर्तमान में गहलोत सरकार के चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने तो विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान भाषण भी दिया था कि भामाशाह कार्ड के टुकड़े-टुकड़े कर दिए जाएंगे। लेकिन अब भामाशाह कार्ड के टुकड़े-टुकड़े तो नहीं हो रहे है, लेकिन यह जरूर है कि भामाशाह स्वास्थ्य योजना को केंद्र सरकार की आयुष्मान योजना के साथ मर्ज किया जा सकता है। वहीं गहलोत सरकार ने नि:शुल्क दवा योजना का विस्तार करने की कवायद भी तेज कर दी है। प्रदेश के मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने बताया कि राज्य सरकार ने टोंक जिले में आंकड़ों पर पायलट स्टडी शुरू करा दी है। मुख्य सचिव ने यह भी कहा कि भामाशाह बीमा योजना के कार्ड का नवीनीकरण कराना आचार संहिता का उल्लंघन नहीं है। आपको बता दे कि गौरतलब है कि केन्द्र ने आयुष्मान योजना भाजपा सरकार के समय शुरू की थी लेकिन राज्य ने भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना संचालित होने का हवाला देते हुए इस योजना को तत्काल शुरू करने में असहमति जता दी थी। 

क्या है आयुष्मान भारत योजना
आयुष्मान भारत योजना या प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, भारत सरकार की एक स्वास्थ्य योजना है। इस योजना को 1 अप्रैल, 2018 को पूरे देश में लागू किया गया था। 2018 के बजट सत्र में वित्त मंत्री अरूण जेटली ने इस योजना की घोषणा की थी। इस योजना का उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर लोगों (बीपीएल धारक) को स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराना है। इसके अन्तर्गत आने वाले प्रत्येक परिवार को 5 लाख तक का कैशरहित स्वास्थ्य उपलब्ध कराया जाएगा।10 करोड़ बीपीएल धारक परिवार (लगभग 50 करोड़ लोग) इस योजना का प्रत्यक्ष लाभ उठा सकेगें। इसके अलावा बाकी बची आबादी को भी इस योजना के अन्तर्गत लाने की योजना है।