इंडियन सेरेमिक्स ट्राइऐनियल के तहत बच्चों के लिए आयोजित की गई कार्यशालाएं

img

जेकेके में बच्चों ने सीखी सेरेमिक्स की कलाएं

जयपुर
जवाहर कला केंद्र (जेकेके) में आयोजित की जा रही भारत के प्रथम 'इंडियन सेरेमिक्स ट्राइऐनियल' के तहत गत 60 दिनों में बच्चों के लिए अनेक कार्यशालाएं आयोजित की गई। प्रत्येक कार्यशाला दो-दो दिन की आयोजित की गई, जिनमें एक विशेेष कलाकार द्वारा प्रतिभागी बच्चों को क्ले (मिट्टी) से सम्बंधित विभिन्न प्रशिक्षण दिये। गत माह के दौरान अब तक चार कार्यशालाओं का आयोजन किया जा चुका है। इनमें कलाकार रूबी झुनझुनवाला द्वारा 'मूवमेंट विद क्ले'; केट मालोन द्वारा 'प्ले विद क्ले'; अदिति सरावगी द्वारा 'कॉयलिंग, स्लेबिंग व स्टैम्पिंग' और कावेरी भारथ द्वारा 'स्कल्पटिंग विद फाइबर्स पेपरक्ले' पर कार्यशाला आयोजित की जा चुकी है। इनके अतिरिक्त अब 11 एवं 12 अक्टूबर को रेयाज बदरूद्दीन द्वारा 'मोजैक' और 25 एवं 26 अक्टूबर को राशि जैन द्वारा 'फेसेज' कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा। अब तक आयोजित की गई प्रत्येक कार्यशाला में महाराजा सवाई मान सिंह स्कूल, द पैलेस स्कूल, रेयान इंटरनेशनल स्कूल, रिजर्व बैंक पब्लिक स्कूल, भारतीय विद्या भवन विद्याश्रम स्कूल, अजीम प्रेमजी फाउंडेशन, उमंग फाउंडेशन और दिशा एवं संधान जैसे एनजीओ, स्कूलों एवं संगठनों के लगभग 100 विद्यार्थियों द्वारा भाग लिया गया।
'स्कल्पटिंग विद फाइबर्स पेपरक्ले' कार्यशाला की प्रशिक्षक कलाकार, कावेरी भारथ ने कहा कि कार्यशाला के जरिए बच्चों को सीखने एवं रचनात्मकता से जोडऩे का विचार था। बच्चों को स्वयं में रचनात्मकता तलाशने और इन कार्यशालाओं की गतिविधियों का आनंद लेने की स्वतंत्रता प्रदान की गई। ये कार्यशालाएं अक्षरा फाउंडेशन ऑफ आर्ट्स एंड लर्निंग के सहयोग से आयोजित की गई।
उल्लेेखनीय है कि सेरेमिक्स पर केन्द्रित यह अंतर्राष्ट्रीय स्तर का सर्वप्रथम आयोजन है, जो कंटम्प्रेरी क्ले फाउंडेशन के सहयोग से आयोजित किया जा रहा है। इसमें 35 भारतीय एवं 12 अंतर्राष्ट्रीय आर्टिस्ट प्रोजेक्ट, 10 कॉलोब्रेशन, 12 वक्ता, एक सिम्पोजियम, फिल्म प्रदर्शन और बच्चों एवं बड़ों की कार्यशालाएं शामिल है।