सीएम—डिप्टी सीएम ने राजधानी में घर—घर जाकर मांगे कांग्रेस के लिए वोट

img

  • बापूनगर के कृष्णा मार्ग पर कई घरों में किया जनसंपर्क 
  • भाजपा के पूर्व पार्षद के घर जाकर भी मांगे वोट 
  • गुजरात चुनावों में अशोक गहलोत ने अपनाया था यह फार्मूला 
  • अब लोकसभा चुनावों में भी डोर टू डोर कैंपेन का फार्मूला 
  • सीएम अशोक गहलोत ने कहा, यही असली चुनाव अभियान है, यह बंद हो गया था प्रचार ऐसे ही होना चाहिए 

जयपुर
सीएम अशोक गहलोत, डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने राजधानी जयपुर मेंं डोर टू डोर कैैंपेन की शुरुआत की। सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम पायलट ने राजधानी के बापू नगर में घर घर जाकर कांग्रेस के लिए वोट मांगे। कांग्रेस के इस डोर टू डोर कैंपेन की शुरुआत सीएम डिप्टी सीएम ने भाजपा के गढ़ माने जाने वाले इलाके से की। सीएम गहलोत ने घर घर जाकर पर्चे बांटे, लोगों से मुलाकात कर कांग्रेस उम्मीदवार ज्योति खंडेलवाल के लिए वोट मांगे। गहलोत ने भाजपा के पूर्व पार्षद जगदीश बालोदिया के घर जाकर भी उन्हें पर्चे बांटे और कांग्रेस के लिए वोट मांगे। इस जनसंपर्क में बड़ी संख्यसा में कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता शामिल हुए। 
ऐसा कम ही देखने को मिलता है जब मुख्यमंत्री खुद पर्चे बांटते हुए वोट मांगे, और घर घर जाए, लेकिन सीएम अशोक गहलोत ने यह प्रयचोग किया है। गहलोत ने गुजरात के प्रभारी महासचिव रहते हुए भी डोर टू डोर कैंपेन करते हुए खुद कई जगह पर्चे बांटे थे, इसका वहां के कार्यकर्ताओं में अच्छा मैसेज गया और पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने में मदद मिली। विधनसभा चुनावों के दौरान प्रदेश में भी यह प्रयोग दोहराया गया जिसके अच्छे नतीजे मिले, अब लोकसभा चुनाव में फिर घर घर जाकर वोट मांगने पर जोर दिया जा रहा है। कांग्रेस अब आज की इस शुरुआत के बाद जयपाुर के हर वार्ड में यह प्रयोग करने जा रही है। सीएम अशोक गहलोत ने जनसंपर्क अभियान के दौरान कहा कि यही असली चुनाव अभियान है, घर घर जाकर वोट मांगना चाहिए, इससे गरीब को लगता है कि उसके पास भी कुछ देने को है और उसके वोट की कीमत बढ़ती है। चुनाव प्रचार अभियान इसी तरह होने चाहिए।