शहीदों के बलिदान का ऋणी रहेगा गुर्जर समाज : पोसवाल

img

धौलपुर
जिले में गुर्जर बलिदान दिवस मनाया गया, बलिदान दिवस पर 23 मई 2008 में गुर्जर आंदोलन में शहीद हुए 72 आंदोलनकारियों को भावपूर्ण श्रृद्धांजलि दी। कार्यक्रम में गुर्जर नेता जयवीर सिंह पोसवाल ने शहिदों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि अपनी कौम को आरक्षण दिलाने के लिए अपने प्राण न्योछावर करने वाले मेरे शहीद भाइयों को शत्-शत् नमन एवम विनम श्रद्धांजलि दी। गुर्जर शहीदों ने गुर्जर समाज के भविष्य के लिए अपना वर्तमान खो दिया। आपके बलिदान को हम व्यर्थ नही जाने देंगे। हम कल भी लड़े थे हम फिर भी लडेंगे मगर आप के बलिदान को व्यर्थ नही जाने देंगे। कार्यक्रम में युवाओं को संबोधित करते हुए पोसवाल ने कहा कि कहते हैं कि युवा शक्ति ही समाज और देश का भविष्य है। युवा के ही कन्धों पर किसी भी देश और समाज का भविष्य निर्भर होता है। यदि युवा वर्ग सशक्त होगा तभी समाज और फिर राष्ट्र सशक्त होगा। व्यक्ति से परिवार, परिवार से समाज और समाज से ही एक राष्ट्र का निर्माण होता है, अत: देश को मज़बूत और शक्तिशाली बनाने के लिए स्वस्थ समाज का होना नितांत आवश्यक है कार्यक्रम में संजय कंसाना ने कहा कि धन्य हैं ऐसे वीर गुर्जरो की मां, जिन्होंने ऐसे वीर सपूत को जन्म दिया, जिन्होंने समाज के हक के लिए लड़ते-लड़ते अपने प्राण न्योछावर कर दिए। मै उन 72 शहीदों को नमन करते हूँ। एडवोकेट गिरीश गुर्जर ने कहा कि समाज 72 वीर शहीदों के बलिदान को गुर्जर समाज भूलेगा नहीं और इनको हमेशा अपने दिल में जगह देगा और इस आंदोलन को तब तक जारी रखा जाएगा जब तक हमें अपना हक नहीं मिल जाता। मंडलेश्वर गुर्जर ने कहा कि गुर्जर समाज पहले अपने देश के ही लड़ा है और आज अपने हक की लड़ रहा है हक की लड़ाई लड़ते रहेंगे अपना हक पाने के लिए, अर्जुन मावई ने कहा 72 वीर गुर्जरों के शहादत को हम नमन करते हैं और अपने बच्चों के भविष्य के लिए समाज की व्यवस्था के लिए लड़ाई को जारी रखा जाएगा। कार्यक्रम में मौजूद यशवीर पोसवाल, ज्ञान सिंह गुर्जर, अर्जुन मावई हरवीर गुर्जर राम लखन गुर्जर, अभिषेक पोसवाल, जीतू गुर्जर, सत्यपाल गुर्जर, कालीचरण बैंसला, अभिषेक हरसाना, तेजपाल गुर्जर, करुआ गुर्जर, राजकुमार आदि लोग मौजूद रहे।