उद्योग विभाग की पांच दिवसीय शिल्पशाला, भारतीय शिल्प संस्थान में आज से आयोजित

img

जयपुर
उद्योग विभाग की पांच दिवसीय शिल्पशाला सोमवार से झालाणा स्थित भारतीय शिल्प संस्थान में शुरु होगी। उद्योग आयुक्त डॉ. कृष्णा कांत पाठक ने बताया कि परंपरागत शिल्प के संरक्षण और संवद्र्धन के साथ ही युवाओं व इन विधाओं से जुडऩे के इच्छुक लोगों के लिए इस तरह का आयोजन उद्योग विभाग द्वारा पहली बार किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि शिल्प शाला में अवार्डी गुरुओं द्वारा शिल्प की बारिकियां समझाई जाएगी। डॉ. पाठक ने बताया कि पांच दिवसीय शिल्प शाला पूरी तरह नि:शुल्क रखी गर्ई है। केवल पंजीयन शुल्क दो सौ रुपए रखे गए हैं। उन्होंने बताया कि भारतीय शिल्प संस्थान की सहभागिता से आयोजित इस शिल्प शाला में ब्लॉक प्रिंटिंग के प्रति सर्वाधिक उत्साह देखा गया है। शिल्पशाला में 14 शिल्पों का चयन किया गया है जिसमें ब्लॉक प्रिंटिंग, टाई एण्ड डाई, लाख, वुडन, लैण्ड स्केप, चर्म शिल्प, मिटटी के बर्तन, टेराकोटा, ब्लू पाटरी, मीनाकारी, उस्ताकला, डेकापेजआर्ट, पेपरमेशे, मिनियचर पेंटिंग, मेंहदी आदि रखी गई है। शिल्पशाला का प्रभारी संयुक्त निदेशक एसएस शाह को बनाया गया है। दस या दस से अधिक समूह के बेच में प्रशिक्षण आयोजित होगा। शिल्प शाला मेें परिचर्चाओं का भी आयोजन किया जाएगा।