क्लोव डेन्टल की जयपुर में 12वीं क्लीनिक शुरू, भारत में कुल 350 क्लीनिक

img

भारत की सबसे बड़ी दंत चिकित्सा देखभाल चेन ने अपना 350 वां क्लिनिक खोला, जयपुर में 12 वां लॉन्च किया

जयपुर
राजस्थान, जिसका सूचना के अधिकार सहित कई सुधारों में सबसे आगे होने का गौरवशाली इतिहास है, आदर्श रूप से भारत में दंत स्वास्थ्य पर जागरूकता का नेतृत्व करने के लिए उपयुक्त है। जिस गति के साथ देश में मुंह से संबंधित और कैंसर के मामले बढ़ रहे हैं, उसे देखते हुए, मुंह की बीमारियों सबसे घातक मूक खतरे का रूप ले रही हैं, और हम सभी को इस प्रवृत्ति को रोकने के लिए करना चाहिए। यह बात क्लोव डेंटल के सीईओ अमरिंदर सिंह ने जयपुर में सोमवार को क्लोव की 350वीं क्लीनिक का उद्घाटन करते हुए कही। उन्होंने कहा ‘‘हम राजस्थान को बहुत महत्व देते हैं और इसलिए हमने अपने 350वें क्लीनिक को लॉन्च करने के लिए इस शहर को चुना, जो हमारे लिए एक बहुत बड़ा मील का पत्थर है। सिंह ने कहा कि हम इस गंभीर संकट के बारे में जागरूकता बढ़ाने के मिशन के साथ आगे बढ़ रहे हैं। इस नए अत्याधुनिक केंद्र के साथ, क्लोव डेंटल के अब पिंकसिटी में 12 क्लीनिक हैं। क्लोव डेंटल के चीफ क्लिीनिकल ऑफिसर लेफ्टिनेंट जनरल डॉ. विमल अरोड़ा ने कहा, एक समाज के रूप में हमें मुंह के रोगों की चुनौती का पर्याप्त रूप से जवाब देना चाहिए। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, मुंह के रोग सबसे आम गैर-संचारी रोग हैं और जीवन भर लोगों को प्रभावित करते हैं, जिससे दर्द, बेचौनी, असंतोष और यहां तक कि मृत्यु भी हो सकती है। डॉ. अरोड़ा ने कहा, हमारे क्लीनिक स्वच्छता, क्लिनिक सुरक्षा, पारदर्शी मूल्य निर्धारण, नैतिकता और ग्राहक सेवा के लिए उच्चतम सीमा प्रदान करते हैं। हमारा चार-चरण स्टरलाइजेशन प्रोटोकॉल प्रत्येक उपकरण और सतह की स्वच्छता और नैदानिक सुरक्षा की गारन्टी देता है जो प्रत्येक रोगी के संपर्क में आता है। हमेशा जागरूकता अभियान के मामले में सबसे आगे, क्लोव डेंटल ने एक नए सार्वजनिक स्वास्थ्य जागरूकता अभियान ‘मैजिक जेल टेस्ट‘ के शुभारंभ की भी घोषणा की। परीक्षण यह पहचानने का एक बहुत ही सरल, आसान और त्वरित तरीका है कि किसी को दांतों की सडऩ और मसूड़ों की बीमारी जैसी समस्याओं का लक्षण है या नहीं। क्लोव डेण्टल पूरे भारत में एक महीने में लगभग 40,000 मरीजों तक पहुंचने और गुणवत्ता स्वास्थ्य सेवा, स्वच्छता और उत्कृष्टता के माध्यम से उनके भरोसे को बनाए रखने का प्रबंधन करता है।