विज्ञापन बिना अधिप्रमाणन के प्रकाशन नहीं कराएं

img

धौलपुर
जिला निर्वाचन अधिकारी नेहा गिरि ने बताया कि लोकसभा आम चुनाव 2019 में इलैक्ट्रोनिक मीडिया पर प्रसारित होने वाले राजनैतिक दलों द्वारा विज्ञापनों का अधिप्रमाणन के बिना प्रकाशन नहीं कराया जा सकता है। उन्होंने बताया कि इलैक्ट्रोनिक मीडिया, केबल नेटवर्क एवं टीवी चैनल्स आदि पर राजनैतिक प्रवृति के विज्ञापनों को मीडिया सर्टिफिकेशन एवं मॉनिटरिंग कमेटी "एमसीएमसी" से अधिप्रमाणन करवाया जाना जरूरी है। राजनैतिक प्रवृति के विज्ञापनों को बिना अधिप्रमाणन प्रसारित किए जाने पर भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी निर्देशों के तहत कार्यवाही की जाएगी। समाचार पत्रों में प्रकाशित कराए जाने वाले विज्ञापनों का भी 5 एवं 6 मई को भी प्रमाणन कराना आवश्यक होगा। सभी राजनैतिक दल आचार संहित की पालना करें:-लोकसभा आम चुनाव 2019 को स्वतंत्रा निष्पक्ष भयमुक्त एवं पारदर्शिता के साथ सम्पन्न कराने के लिये सभी राजनैतिक दलों को आदर्श आचार संहिता की पालना करना अनिवार्य है। जिला निर्वाचन अधिकारी नेहा गिरि ने बताया कि किसी भी दल या अभ्यर्थी को ऐसा कोई कार्य नहीं करना चाहिये जो विभिन्न जातियों, धार्मिक एवं भाषायी समुदायों के बीच विद्यमान मतभेदों को बढ़ाये या घृणा की भावना उत्पन्न करें। किसी भी व्यक्ति के जीवन के ऐसे सभी पहलुओं की आलोचना नहीं की जानी चाहिये जिनका संबंध अन्य दलों के नेताओ या कार्यकर्ताओं के सार्वजनिक क्रियाकलाप से ना हो। मतदाता पहचान पर्ची मतदान के लिए नहीं होगी मान्य:-जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि लोकसभा आम चुनाव 2019 में मतदान के लिए मतदाता पहचान पर्ची मतदान के लिए मान्य नहीं होगी। इसके लिए निर्वाचन विभाग द्वारा मान्य 11 वैकल्पिक दस्तावेजों में से एक दस्तावेज दिखाने पर ही मतदान किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि मतदाता फोटो पहचान पत्र के अलावा पासपोर्ट, ड्राईविंग लाईसेन्स, सर्विस पहचान पत्रा, बैंक या डाकघर की पासबुक, पेन कार्ड, आधार कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड, स्वास्थ्य बीमा कार्ड, पेंशन दस्तावेज, सरकारी पहचान पत्रा एवं स्मार्ट कार्ड में से एक दस्तावेज प्रस्तुत कर मतदान किया जा सकेगा।