दिवंगत राजमाता गायत्री देवी की 100वीं जयन्ती समारोह में होंगे कई कार्यक्रम

img

जयपुर
दिवंगत महारानी गायत्री देवी की 100वीं जयन्ती समारोह का आयोजन उनके पौत्र महाराज देवराज सिंह, पौत्री राजकुमारी लालित्या कुमारी और महारानी गायत्री देवी मेमोरियल चेरेटबल ट्रस्ट की ओर से आयोजित किया जा रहा है। इस स्मरणोत्सव शताब्दी वर्ष की शुरूआत 23 मई को सूर्योदय (7.30 बजे) महारानी साहिबा के जन्मदिन पर जयपुर के प्रथम आराध्य गोविन्देव जी मंदिर में महाआरती अउर प्रार्थना सभा के साथ होगी। स्मरणोत्सव की यह गतिविधियां शताब्दी वर्ष के रूप में अगले वर्ष 23 मई 2020 तक जारी चलेंगी। यह जानकारी महारानी गायत्री देवी के पौत्र महाराज देवराज सिंह ने आज जयपुर में दी। महारानी गायत्री देवी की पौत्री राजकुमारी लालित्या कुमारी ने बताया कि आयोजनों की अगली श्रृंखला में 26 मई को बी.एम. बिड़ला ऑडिटोरियम में पारम्परिक दीप प्रज्ज्वलन अउर गणेश वंदना के साथ 7 दिवसीय फोटो प्रदर्शनी ''ए जरनी टू हार्ट्स ऑफ पीपुल्स'' का आरंभ होगा। इस आयोजन में अतिथि के रूप में महाराजा जोधपुर, गजसिंह, महाराजा कोटा, ब्रिजराज सिंह, भरपुर महाराजा, विश्वेन्द्र सिंह, बीकानेर राजकुमारी, राज्यश्री कुमारी, हथुआ महाराज, बहादुर मृगेन्द्र सिंह रहेंगे। प्रदर्शनी के उद्धाटन के बाद फिल्म अभिनेत्री सिम्मी गिरेवाल द्वारा लिए गए राजमाता गायत्री देवी के दुर्लभ इन्टव्यू का प्रदर्शन किया जायेगा। इस अवसर पर अभिनेत्री सिम्मी गिरेवाल भी उपस्थित होगी और राजमाता साहिब के नजरिये को अपने अन्दाज में प्रस्तुत करेंगी। गौरतलब है कि फोटो प्रदर्शनी का प्रदर्शन 26 मई को बी.एम. बिड़ला ऑडिटोरियम और 27 मई से 02 जून तक जवाहर लाल नेहरू मार्ग स्थित कलानेरी आर्ट गैलरी में हङ्क्षगा। प्रदर्शनी में प्रवेश सभी के लिए नि:शुल्क है और प्रदर्शनी में आने वाले दर्शक इन चित्रों के माध्यम से महारानी गायत्री देवी की जीवन यात्रा देख सकंगेें। इसके अलावा एक नृत्य नाटिका ''सफर" का मंचन जयश्री पेड़ीवाल इंटरनेशनल स्कूल के कक्षा आठवीं के विद्यार्थी करेंगे, महारानी गायत्री देवी की यह बायोपिक 20 मिनट की होगी। इस नृत्य नाटिका के माध्यम से राजमाता साहिब के जीवन के विभिन्न चरणों को दर्शाया जाएगा जैसे कि महिला सशक्तिकरण, परोपकार, राजनीति और जयपुर के विकास में ऐसे अनेक काम किए जिन्हें जयपुर वासी आज तक नहीं भूल पाए हैं। राजनीति में रहते हुए वे तीन बार जयपुर से सांसद चुनी गई एक बार कुल 246,516 मतों में से उन्हें 192,909 वोट प्राप्त हुए। यह न केवल जयपुर वासियों का उनके प्रति स्नेह था अपितु इसने एक रिकॉर्ड कायम किया जिसे गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड में दर्ज किया गया है। उनके निर्देश पर किस प्रकार जयपुर का मास्टर प्लान बदला, किस तरह से महिलाएं घूंघट से बाहर आई यह सारा वृतांत इस नाटिका के माध्यम से बताया जाएगा ताकि महारानी गायत्री देवी की यादों को स्थाई बनाया जा सके। इसके बाद स्कूल की ऑर्केस्ट्रा टीम अपना प्रदर्शन करेगी। यह जानकारी जयश्री पेड़ीवाल इंटरनेशनल स्कूल की निदेशक, डॉ. जयश्री पेड़ीवाल ने दी। आयोजन सचिव, मुकेश मिश्रा ने बताया कि इसके बाद पहली बार दिये जाने वाले महारानी गायत्री देवी अवॉर्ड समारोह का आयोजन किया जायेगा जिसमें जयपुर को पर्यावरण या सामाजिक स्तर पर समृद्ध करने वाले चैम्पियन को सम्मानित किया जाएगा। इसके लिए 200 से अधिक नामांकन प्राप्त हुए और जिनमें से एक को इस पुरस्कार के प्राप्तकर्ता के लिए चुना जाएगा। एक व्यक्ति या संगठन जिसने शहर को साफ करने और जयपुरवासियों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए पर्यावरण के अनुकूल नई परियोजनाओं का इनोवेशन किया है। नामांकन का मूल्यांकन जूरी समिति द्वारा किया गया है जिसमें राजमाता गायत्री देवी की पौत्री राजकुमारी ललिता, उनकी पुत्र वधु राजकुमारी प्रियनंदना, भरतीय फिल्म निर्देशक एवं पटकथा लेखक और निर्माता मधुर भंडारकर, बीकानेर के महाराजा गंगा सिंह ट्रस्ट की अध्यक्षा और 16 साल की उम्र में शूटिंग के लिए अर्जुन पुरस्कार विजेता, प्रिसेज राजश्री राजकुमारी; भरतपुर की महारानी एवं पूर्व भाजपा सांसद, दिव्या सिंह फैशन और ज्वैलरी डिजाइनर, नरीशंत शर्मा और आयोजन सचिव, मुकेश मिश्रा शामिल हैं। पुरस्कार पाने वाले कङ्क्ष एक पदक तथा एक लाख रूपए नकद दिये जाएंगे। यह पुरस्कार महारानी गायत्री देवी मेमोरियल ट्रस्ट की ओर से प्रायङ्क्षजि किया गया है।