सभी संस्थाऐं बनाए गए पैराओं का निस्तारण करना सुनिश्चित करें : नेहा गिरि

img

धौलपुर
स्थानीय निधि अंकेक्षण विभाग की जिला स्तरीय ऑडिट पैरा निस्तारण समिति की बैठक जिला कलक्टर नेहा गिरि की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक में उन्होंने समस्त संस्था प्रधानों को निर्देश दिए कि भवन के आक्षेपों में वसूली सहित विधिक एवं विभागीय कार्रवाई तत्काल कर स्थानीय निधि अंकेक्षण विभाग को सूचित करें तथा पंचायतीराज एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के तहत गबन प्रकरणों में वसूली होने के पश्चात् विधिक एवं विभागीय कार्रवाई न करने की एवज में 500 रूपये की राशि के प्रकरण में विकास अधिकारी, 2000 रुपए की राशि के प्रकरणों में मुख्य कार्यकारी अधिकारी द्वारा एवं 5000 रूपये तक की राशि के प्रकरणों में जिला कलक्टर द्वारा प्रमाण पत्रा जारी करने पर पैरा निस्तारण किये जाएं। उन्होंने कहा कि बकाया अंकेक्षण शुल्क सभी विकास अधिकारी जमा कराना सुनिश्चित करें। ग्राम विकास अधिकारी रजिस्टर का संधारण करना सुनिश्चित करें तथा लेखा नियम की शत-प्रतिशत पालना करते हुए ही कार्य कराए जाएं एवं ग्राम पंचायत अभिलेख संरक्षित करने के निर्देश दिए। ग्राम विकास अधिकारी प्रत्येक माह की रिकॉर्ड की प्रतियां पंचायत समिति कार्यालय को भेजना सुनिश्चित करें। गबन की राशि वसूल करने के लिए सम्बन्धित के विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही किया जाना सुनिश्चित करें। सभी संस्थाऐं बनाए गए पैराओं का निस्तारण करना सुनिश्चित करें। जिन पैराओं में कार्यवाही कर दी गई है उनकी निस्तारण करने की कार्यवाही से अवगत कराते हुए रसीद भिजवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने समस्त संस्थाओं द्वारा आगामी बैठक से पूर्व शत-प्रतिशत आक्षेपों की पालना नियन्त्राण अधिकारी के माध्यम से अंकेक्षण विभाग को भिजवाने के निर्देश दिए। उन्होंने अंकेक्षण पैरा अ एव ब श्रेणी के आक्षेपों के निस्तारण के सम्बंध में विशेष शिविर आयोजित करने का कार्यक्रम तैयार करने के निर्देश स्थानीय निधि अंकेक्षण विभाग को दिये। बैठक में मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद शिवचरण मीना, कोषाधिकारी अनिल कुमार गोयल, सचिव मण्डी समिति कैलाश मीना, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गोपाल गोयल, सभी विकास अधिकारी, स्थानीय निधि अंकेक्षण विभाग के अधिकारी सहित अन्य संस्था प्रधान एवं प्रतिनिधि मौजूद थे। उन्होंने निर्देश दिये कि जिन पंचायत समितियों ने ग्राम पंचायतों के आक्षेप निस्तारण की सूचना नहीं भिजवायी हैं, वे तत्काल भिजवाएं। उन्होंने कहा कि बैठक में दिये गये निर्देशों की शत-प्रतिशत पालना सुनिश्चित की जाए।