मोदी सरकार मैसेज की राजनीति की आड़ में लोकतंत्र खत्म कर रही है: गहलोत

img

जोधपुर
प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समुद्र किनारे कचरा उठाते हुए का वीडियो वायरल होने पर मीडिया के सवालों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि मोदी जी देश की जनता को लंबे समय तक बेवकूफ नहीं बना सकते। अगर आपकी सरकार मैसेज की राजनीति की आड़ में देश के लोकतंत्र को खत्म करेगी तो देश की जनता उठ खड़ी होगी।

 

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री सफाई करें या जो भी अच्छे काम करें उसका मैसेज अगर वह देना चाहे तो देना चाहिए लेकिन मैसेजों  की आड में लोकतंत्र को खत्म करने की चाल नहीं चलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि वर्तमान में देश में भय और आतंक का माहौल है अभी एआईसीसी के अकाउंट सेक्शन के अधिकारियों पर छापेमारी हो रही है यह बेहद खतरनाक दृष्टिकोण है। ईडी, सीबीआई जैसी सरकारी एजेंसियों को दबाव में लेकर सिलेक्टिव रूप से टारगेट करके छापेमारी की जा रही है, पूरा पीएमओ देश में चुन चुन कर विपक्षियों को टारगेट बना रहा है यह एक स्वस्थ लोकतंत्र के लिए अच्छी बात नहीं है।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में लोकतंत्र जो इतना मजबूत हुआ वह कांग्रेस की लोकतांत्रिक मूल्यों में गहरी आस्था की वजह से है और उसी वजह से मोदी जी पीएम बन पाए हैं अगर देश में पाकिस्तान की तरह हालात होते तो मोदी जी पीएम नहीं बन पाते, यह बात उनको समझनी चाहिए। केंद्र की वर्तमान सरकार ने जो माहौल बना रखा है वह उस लोकतंत्र की जड़ों को कमजोर करने वाला है यह अब लोगों को अब समझ आ रहा है लोग सडक़ों पर उतरने लगे हैं।

 

अभी भी राफेल के आने  में लगेंगे 8 माह
सर्जिकल स्ट्राइक से जुड़े राफेल के सवाल पर उन्होंने कहा कि अभी भी राफेल के आने में 8 माह लगेंगे लेकिन रक्षा मंत्री फ्रांस में जा कर पूजा करके आ गए और देश की जनता को भ्रमित करने वाला मैसेज दिया जा रहा है। राजस्थान में आगामी उपचुनावों और पार्टी में एकजुटता के सवाल का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी पार्टी एकजुट है हमारे कार्यकर्ता लगे हुए हैं और हम चुनाव जीतेंगे। उन्होंने कहा कि राजस्थान भजपा के अध्यक्ष सतीश पूनिया जो कांग्रेस पार्टी की एकजुटता पर सवाल उठा रहे हैं उनको समझना चाहिए कि जब जयपुर में उन्होंने अध्यक्ष का पदभार संभाला तो वसुंधरा राजे का उस कार्यक्रम में नहीं आना क्या संकेत करता है।  मुख्यमंत्री ने कहा कि वे लोग जो कांग्रेस की एकजुटता पर सवाल उठाते हैं उनको पहले अपना घर संभालना चाहिए।