कनेक्ट इंडिया डाक विभाग की नई पहल

img

जयपुर
जल्दी ही डाकिया आपके घर ड्राइविंग लाइसेंस एवं वाहन पंजीकरण प्रमाण-पत्र लेकर दस्तक देने वाला है। जी हां, राज्य के प्रत्येक आम-नागरिक, विषेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी जडें मजबूत करने के उद्देश्य से डाक विभाग राजस्थान परिमण्डल ने परिमण्डल के मुखिया राम भरोसा, चीफ पोस्टमास्टर जनरल, राजस्थान परिमण्डल के नेतृत्व एवं दिनेश शर्मा, निदेशक डाक सेवाएं (मेल्स एवं बीडी) एवं एन.आर. मीना, निदेशक, डाक सेवाएं (मुख्यालय) की अगुवाई में विशेष अभियान ''कौन बनेगा बाहुबली" एवं ''कनेक्ट इण्डिया पोस्ट्स विद आईपीपीबी" चलाया है। भारतीय डाक विभाग, राजस्थान परिमण्डल, जयपुर ने महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल करते हुए प्रथम राष्ट्रीय खाता सुविधा धारक के रूप में परिवहन विभाग, राजस्थान सरकार की संस्था ''टोहास" (ट्रक ऑपरेटर्स हाईवे एमनेटी सोसायटी), जयपुर के साथ, स्मार्ट ड्राइविंग लाइसेंस एवं वाहन पंजीकरण प्रमाण-पत्र के प्रसारण हेतु अनुबंध किया है। 
राज्य के सभी परिवहन कार्यालयों से होगा संग्रहण: राजस्थान परिमण्डल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल राम भरोसा ने बताया कि स्मार्ट ड्राइविंग लाइसेंस एवं वाहन पंजीकरण प्रमाण-पत्रों का संग्रहण राज्य के सभी 52 जिला परिवहन कार्यालयों से किया जाएगा। जिसमें बुकिंग एवं संग्रहण संबंधी सभी कार्य निकटवर्ती डाकघरों एवं व्यवसाय सेवा केंद्रों द्वारा प्रतिदिन किया जाएगा। इन सभी की त्वरित बुकिंग एवं वितरण के लिए डाकियों एवं डाक सहायकों को विशेेष रूप से तैयार किया किया गया है।

1 जूलाई 2019 से शुरू होगी सेवा : राम भरोसा, चीफ पोस्टमास्टर जनरल, राजस्थान परिमण्डल ने बताया कि यह सेवा 1 जुलाई 2019 से शुरू होगी। जिसमें ग्राहकों को घर बैठे उनके सभी ड्राइविंग लाइसेंस एवं वाहन पंजीकरण प्रमाण-पत्र पोस्टमैनों के माध्यम से पहुंचाया जाएगा। परिमण्डल के मुखिया रामभरोसा जी ने बताया कि इस अनुबंध से परिमण्डल को सालाना करीब 3 करोड रूपए से ज्यादा का व्यवसाय अर्जित होगा। जिससे विभागीय आय में वृद्धि होगी। राम भरोसा, चीफ पोस्टमास्टर जनरल, राजस्थान परिमण्डल ने बताया कि आईपीपीबी कॉर्पोरेट कार्यालय एवं भारतीय डाक विभाग के संयुक्त तत्वाधान में सुदूर ग्रामीण अंचल की एक ढाणी में  बैठे प्रत्येक व्यक्ति को डाक विभाग से जोडऩे के उद्देश्य से एक विशेष अभियान कौन बनेगा बाहुबली दिनांक 15 मई 2019 से 15 जून 2019 के मध्य चलाया गया। जिसमें ग्रामीण क्षेत्रों में कार्यरत ग्रामीण डाक सेवकों में माननीय प्रधानमंत्री, भारत सरकार की महत्वाकांक्षी योजना ''प्रधानमंत्री कौशल विकास मिशन" के अंतर्गत प्रशिक्षण प्रदान करनें के साथ-साथ उनमें कार्य के प्रति नयी ऊर्जा एवं प्रेरणा का सचार किया गया। साथ ही उन्हें अंतिम छोर पर विद्यमान आम नागरिक तक बैंकिंग सेवाएं पहुंचाने हेतु प्रेरित किया गया, जिससे प्रधानमंत्री द्वारा देखे गए सपने को साकार किया जा सके। उन्होंने बताया कि इस मिषन में प्रत्येक ग्रामीण डाक सेवक को 20 आईपीपीबी (इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक) के खाते एवं उसे डाक विभाग के डाक बचत खाते से लिंक करने के साथ-साथ इसमें कुल रुपए 1000/- का लेन-देन करवाने का लक्ष्य आवंटित किया गया था। साथ ही उल्लेखनीय कार्य करने वाले ग्रामीण डाक सेवकों को विभाग में अच्छी सेवा करने हेतु सम्मानित करने का भी प्रावधान किया गया है। मुझे यह बताते हुए आप सभी को खुषी हो रही है कि पूरे परिमंडल में विभिन्न मण्डलों से 493 ग्रामीण डाक सेवकों द्वारा "कौन बनेगा बाहुबली" मिशन की पात्रता पूरी गयी। जिसका परिमणाम स्वरूप राजस्थान परिमण्डल इस अभियान में देश में पांचवे स्थान पर रहा।   

''कनेक्ट इण्डिया पोस्ट्स विद आईपीपीबी" एक महत्वाकांक्षी एवं जन-जन को डाक विभाग से जोडऩे का अभियान:
राजस्थान परिमण्डल में डाक सेवाओं के विस्तार एवं जन-जन तक अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के उद्देष्य से लगभग एक करोड़ निष्क्रिय खातों (साइलेंट अकाउंट) को पुन: जीवित करनें एवं डीबीटी को ध्यान में रखते हुये श्री राम भरोसा, माननीय मुख्य पोस्टमास्टर जनरल राजस्थान परिमंडल के द्वारा एक नवीन मिशन "कनेक्ट इंडिया पोस्ट्स विद आईपीपीबी" का आगाज किया गया। जिसका मुख्य उद्देश्य निष्क्रिय खातों जिसमें नरेगा के खाते भी शामिल होंगे को खातेदारों/नरेगा लाभार्थियों से संपर्क कर पुन: जीवित (लाइव अकाउंट) करानें के साथ-साथ लाभार्थियों का आईपीपीबी खाता खोलकर डाक बचत खाते से लिंक किया जाना है। जिससे भविष्य में लाभार्थी डीबीटी का लाभ अपनें खाते में सीधे ही प्राप्त कर आईपीपीबी के माध्यम से बैंकिंग की सुविधा भी प्राप्त कर सकें। आईपीपीबी में खाता खुलवाने से प्रत्येक आम नागरिक क्यूआर कोड के माध्यम से किराना वाले का भुगतान, मजदूरी भुगतान, पान-वाले का भुगतान एवं प्रत्येक रोजमर्रा की आवष्यकताएं बिना कैष लेन-देन के सुरक्षित माध्यम से ऑनलाइन रूप में कर सकेंगे। जिससे डिजिटल इण्डिया का सपना भी साकार होगा। इस संबंध में माननीय मुख्य पोस्टमास्टर जनरल, राजस्थान परिमंडल ने बताया कि राज्य के विभिन्न 24 मंडलों में एवं संबन्धित उपमंडलों में एक साथ दिनांक 20 जून 2019 को 11 बजे से डाकमेलों का आयोजन किया जावेगा जिसमें निष्क्रिय खातों को जीवित किये जानें के कार्य को प्रगति दी जायेगी। साथ ही प्रत्येक मेले के दौरान प्रधानमंत्री जन सुरक्षा योजना (अटल पेंशन योजना, जीवन सुरक्षा बीमा, जीवन ज्योति बीमा, सुकन्या खाता योजना) के कम से कम 100 नामांकन भी दर्ज करने का लक्ष्य दिया गया है। उन्होंने बताया कि कोई भी आम नागरिक हमारी इन योजनाओं से अछूता न रहे इसके लिए हमने  परिमंडल कार्यालय/क्षेत्रीय कार्यालय में मॉनिटरिंग हेतु प्रोजेक्ट ऑफिसर नियुक्त किये हंै, जो कि मिशन की प्रगति एवं सफलता में अपना महत्वपूर्ण योगदान देंगे। इस दौरान श्री दिनेष शर्मा, निदेषक, डाक सेवाएं (मेल्स एव ंबी.डी.), श्री बी.आर. सुथार, सहायक पोस्टमास्टर जनरल, श्री एस.एल. पटेल, सहायक पोस्टमास्टर जनरल, श्री बी.एल. शर्मा, सहायक निदेषक (स्टाफ एवं वैयक्तिक), श्री संतोष कुमार शर्मा, सहायक निदेषक (लेखा) एवं श्री आई.एल. सांखला, सहायक निदेषक (ग्रामीण व्यवसाय) एवं कई अन्य अधिकारी मौजूद रहे।