राजीव गांधी के सपनों को साकार होते दिखाया गया प्रदर्शनी में

img

जयपुर
पूर्व प्रधानमंत्री एवं भारत रत्न स्वर्गीय राजीव गांधी की 75 वीं जयंती के अवसर पर राज्य सरकार द्वारा वर्षभर मनाए जाने वाले कार्यक्रमों की श्रृंखला में आयोजित राजस्थान इनोवेशन विजन में आयोजित प्रदर्शनी में राजीव गांधी के सपनों को राजस्थान में साकार होते हुए दिखाया गया। बिरला सभागार में एक ही छत के नीचे पहली बार इतने दिखे अभिनव प्रयोग दिखाई दिए। दर्शकों के अत्यधिक उत्साह और रूचि को देखते हुए 20 अगस्त तक चलने वाली इस प्रदर्शनी को 22 अगस्त तक दो दिनों के लिए बढ़ा दिया गया है। स्व राजीव गांधी ने 90 के दशक में प्रधानमंत्री के रूप में 21वीं सदी का जो सपना देखा और सूचना प्रौद्योगिकी दूरसंचार, आई टी, अक्षय ऊर्जा तथा पंचायती राज की आवश्यकता को परिभाषित करते हुए पूरे देश को एक नई दिशा दी उसने आज देश को पूरे विश्व में एक अनूठी पहचान दिलाई है। राज्य सरकार द्वारा राजीव राजस्थान इनोवेशन विजन में प्रदर्शित की गई प्रदर्शनी में इन सभी बिंदुओं का ही समावेश किया गया है। इसका प्रमुख कारण मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का तत्कालीन केंद्र सरकार में मंत्री होना रहा।   गहलोत ने तब इन बदलाव के प्रयोगों और सोच को नजदीक से देखा अनुभव किया और अब ऐसी प्रदर्शनी के लिए अधिकारियों को प्रेरित किया प्रदर्शनी में बताया गया की किस तरह स्व. राजीव गांधी के सपनों के बाद देश में आईटी और सूचना प्रौद्योगिकी में क्रांति आई है। इस प्रदर्शनी में राजस्थान के बदले हालातों को भी दिखाया गया है। प्रदर्शनी में ई गवर्नेंस पेपर लैस सिस्टम, ई कलेक्शन, ई पेमेंट, ई टेंडर, ई बैंकिंग, ई मित्र, पोस सिस्टम से विभिन्न विभागों के कामकाज में आई तेजी, विस्तार, आमजन को मिल रही सुविधा तथा बदलाव को प्रदर्शित किया गया। सूचना प्रौद्योगिकी में आए बदलाव से मीडिया पर पड़े प्रभाव, जल वायु सड़क और रेल यातायात के बदले बुनियादी ढांचे का भी इस प्रदर्शनी में प्रदर्शन हुआ। प्रदर्शनी में फोटो एनिमेशन, थ्री लेंस, थ्रीडी चश्मा, रोबर्ट युग को भी प्रदर्शित किया गया है। स्व. श्री राजीव गांधी के सपनों के अनुरूप ऊर्जा क्षेत्र में आए बदलाव को भी प्रदर्शनी में प्रदर्शित किया गया है। इसके अंतर्गत सोलर एनर्जी से गांवों में आए बदलाव, प्रदेश का ऊर्जा क्षेत्र में स्वावलंबन, विंड एनर्जी, गांव गांव का विद्युतीकरण सहित कई महत्वपूर्ण विषयों का प्रस्तुतीकरण किया गया। प्रदर्शनी में पंचायत राज व स्वायत्त शासन के सशक्तिकरण को अलग-अलग पहलुओं से दर्शाया गया, जिसमें कचरा निष्पादन बायोगैस, ड्रेनेज सिस्टम, इंदिरा आवास योजना, मुख्यमंत्री आवास योजना, वाटर हार्वेस्टिंग, वर्षा जल संग्रहण, देहाती बाजार प्रमुख बिंदु है। प्रदर्शनी में विभागों द्वारा चल रही विभिन्न योजनाओं को विभिन्न मॉडल द्वारा प्रदर्शित भी किया गया इनमें अजमेर स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट का मॉडल प्रमुख है। राज्य सरकार द्वारा प्रदर्शित इस तरह की अभिनव प्रदर्शनी के बाद इन क्षेत्रों में नई क्रांति आएगी क्योंकि सरकारी विभागों में नई तकनीक से कामकाज बढ़ेगा वही निजी क्षेत्र के लोग सरकार का रूप देख कर अब इन क्षेत्रों में नए काम और प्रयोग करेंगे। इस प्रदर्शनी में निजी क्षेत्र की भागीदारी भी सराहनीय रही जो अब राज्य के विकास में भागीदारी के रूप में उभरेगी।