रोमांटिक लव स्टोरी में बुनी है गन वाली दुल्हनियां की स्क्रिप्ट

img

जयपुर
पैशन वर्ल्ड एंटरटेनमेंट की ओर से 3 मई को रिलीज होने जा रही बॉलीवुड फिल्म ''गन वाली दुल्हनिया" की स्टार कास्ट ने जयपुर में फिल्म प्रमोशन किया। एक होटल में आयोजित प्रेस वार्ता में फिल्म के राइटर-डायरेक्टर शान्तनु अनन्त ताम्बे व अभिनेत्री कंचन अवस्थी, डॉली कौशिक, अभिनेता एल्विश चतुर्वेदी और मयूर कुमार प्रेस से रू-ब-रू हुए और फिल्म की जानकारी शेयर की। फिल्म में उपरोक्त कलाकारों के अलावा अभिनेता गोविन्द नामदेव, गजेन्द्र चौहान, विजेन्द्र काला आदि ने भी अभिनय किया है।  अभिनेत्री कंचन अवस्थी ने कहा कि यह एक लव रोमांटिक और कॉमेडी से भरपूर फिल्म है, जिसमें शादी के समय दुल्हन का अपहरण हो जाता है और अपहरण की घटना को दबाने के लिए उसके किसी और से अफेयर की कहानी बुन दी जाती है। एक गन वाली दुल्हनिया का अनूठा स्वरूप इस फिल्म में दर्षकों को देखने को मिलेगा। फिल्म की शूटिंग उत्तरप्रदेष में लखनऊ, बरेली, सीतापुर और उत्तराखण्ड में नैनीताल आदि स्थानों पर हुई है। अभिनेत्री कंचन अवस्थी का कहना है कि जिस प्रकार रीयल लाइफ में हम दोहरे किरदार निभाते हैं, उसी प्रकार ''गन वाली दुल्हनिया" फिल्म में भी मैंने एक ही किरदार को दो तरीके से अभिनीत किया है। फिल्म की स्क्रिप्ट पढ़ते समय यह मैंने कभी नहीं सोचा था कि मुझे दुल्हन का भारी-भरकम लहंगा पहनकर दौड़ लगानी पड़ेगी, लेकिन ऐसी सिचुएशन को भी मैंने बखूबी निभाया है। मुझे ऐसी स्थिति के किरदार निभाने में बड़ा मजा आता है, जैसा कि आप मेरी पहले की फिल्मों ''भूत वाली लव स्टोरी", ''फ्रॉड सैंया" आदि में देख चुके हैं। फिल्मों में आने के सवाल पर कंचन अवस्थी ने कहा कि मैं तो संगीत के क्षेत्र में जाना चाहती थी। इसके लिए मैंने भारतीय शास्त्रीय संगीत में भातखण्डे विश्वविद्यालय से विशारद की उपाधि भी प्राप्त की है, लेकिन संयोग से सगीत साधना के दौरान थिएटर से जुड़ाव हो गया और फिल्मों के लिए राह मिल गई। हालांकि बॉलीवुड में एन्ट्री से पहले मैंने जी टीवी के सीरियल ''अम्मा" में शबाना आजमी के अपोजिट रोल भी किया है। वे हंसते हुए कहती हैं कि मेरे सपने बहुत ऊंचे हैं और ''गन वाली दुल्हनिया" के बाद अब मेरा सपना ''तोप वाली दुल्हनियां" का रोल करने का है। जयपुर यात्रा के बारे में कंचन अवस्थी ने कहा कि गुलाबी नगरी मेरे सबसे पसंदीदा शहरों में टॉप पर हैं। यहां के लोगों का मनुहार भरा स्वागत और राजस्थानी भोजन प्रमुख रूप से आकर्षित करते हैं। अजमेर शरीफ से भी मेरा खासा रिश्ता रहा है।