देश हित और जन हित में करो काम : राज्यपाल

img

जयपुर
राज्यपाल कल्याण सिंह से बुधवार को यहां राजभवन में भारतीय प्रषासनिक सेवा के प्रशिक्षु अधिकारियों के एक दल ने मुलाकात की। दल में तीन महिलाएं और सात पुरूष सहित दस अधिकारी शामिल थे। राज्यपाल ने अधिकारियों से परिचय लिया और उनको दिये जा रहे प्रशिक्षण के बारे में पूछा। राज्यपाल कल्याण सिंह ने कहा कि समय की पाबन्दी को जीवन का अभिन्न अंग बना लें। उन्होंने कहा कि भारतीय प्रशासनिक सेवा महत्वपूर्ण सेवा है। इस सेवा के अधिकारियों से ही प्रशासन चलता है। इसलिए आज से ही निर्भिकता और सत्यता के पथ पर चलने का दृढ़ निश्चय कर लें। ढुल-मुल की नीति न रखें बल्कि अपनी राय बेवाक तरीके से रखें। राज्यपाल सिंह ने कहा कि सन् 1962 से वे जनता की सेवा कर रहे हैं लेकिन उन्हें कभी यह याद नही आता कि वे किसी कार्यक्रम या बैठक में देरी से पहुँचे हों। सिंह का कहना था कि वचनों की प्रतिबद्वता से ही आम जन का विश्वास हासिल किया जा सकता है। राज्यपाल ने कहा कि अधिकारी गरीबों का अधिवक्ता होता है और उसका कर्तव्य है कि वह किसी गरीब का अहित न होने दे और न ही किसी के साथ अन्याय होने दें। राज्यपाल ने कहा कि देश हित व जनहित की कसौटी पर अपने आप को खरा उतारें। इस मौके पर हरिचन्द्र माथुर लोक प्रषासन संस्थान के महानिदेषक श्री अष्वनी भगत, राज्यपाल के सचिव श्री देबाशीष पृष्टी और अतिरिक्त निदेषक श्रीमती संध्या मौजूद थे।